Still Thinking

Finally, I am back to my home after some hard work,, feeling tired, so need some rest, going to bed,,, but my mind is still thinking about someone,, 😡😡😡😡..

” वो वक्त कब आएगा,, जब कोई हमे भी प्यार से बुलायेगा

और कहेगा आजा तू ही है वो जिसका मुझे सदियों से इंतजार था,,,,

तू ही है जिसे मैंने अपने ख्बावों मे देखा था!

और बस यह सोचा था कि बस तू मिल जाये

यूँ मुलाकात तो कई दफा हुयी तुमसे अनजाने में ,,,पर शायद में तुम्हे पहचान ना सका ..!

पर अब अगर तुम  मिले हो तो इस मुलाकात की बात ही कुछ और है..!

अब यूँ लगता है आ जाओ,,, समा जाओ मेरी दुनिया मे,,,

ओर बस जाओ तुम भी मेरी जिंदगी में  सपनों से निकलकर..!

ख्बाव तो हमेशा रंगीन हो सकते हैं,,, क्योंकि उनमें कोई शर्त नहीं होती,,,

आओ हम अपनी जिंदगी को भी बिना किसी शर्त कि बना देते है..!

यह मत सोचो कि मै तुमसे कुछ माँगना चाहता हूँ,,

पर बस मेरा साथ दे दो,, सपनों को अपना बनाने मे…new poem 2

Advertisements

3 thoughts on “Still Thinking

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s